Jan 11, 2013

परिंदे


इन सर्द रातों में कुछ परिंदे,
शहरों में,
दर बदर भटकते फिरते हैं
कांच की भट्ठियों में जलती आग,
उन्हें गर्मी नहीं देती
ढलता सूरज घरौंदों से,
उन्हें पुकारने की बजाय,
अँधेरी रात का खौफ़ दिलों में भर जाता है

छोड़ कर अपने गाँव चले आये थे जो,
कभी दाने की तलाश में,
या अपने घरों को गुम होता देख,
शहर के अज़गर की सांस में
वो परिंदे गुज़रते हैं अब
इन बर्फानी गलियों से नंगे पाँव
आँखों में एक ही सपना लिए
कि इन कंक्रीट के जंगलों में कहीं,
अपना भी एक घोंसला हो
और पंखों को भटकने अलावा,
ठहरने की भी आज़ादी मिले

6 comments:

  1. पंखों को भटकने अलावा,
    ठहरने की भी आज़ादी मिले..

    behad khoobsoorat..

    awesome composition.. loved it abhijit..

    ReplyDelete
  2. thanks for the generous appreciation!

    ReplyDelete
  3. good one dude..
    reminded me of sadda haq-
    Pata hai bahut saal pehle yahan ek jungle hota tha. ghana bhayanak jungle. Phir yahan ek shaher ban gaya, saaf suthre makan, seedhe raaste, sab kuch saleeke se hone laga. Par jis din jungle kata, us din parindo ka ek jhund yahan se hamesha ke liye ud gaya.. kabhi nahi lauta. main un parindo ko dhoond raha hoon, kisi ne dekha hai unhe? dekha hai??

    ReplyDelete
    Replies
    1. Parinde common denominator hain aur insaan ki harkatein bhi is dialogue aur meri poem mein. Jo parinde jungle katne ke saath chale gaye wo symbolic hain bahut saare traditions, culture aur values ke jo gayab ho gaye kahin. Meri kavita un logon ki kahani hai jo shehar ki bheed mein apne liye ek jagah dhonndh rahe hain. (My interpretation on the lines you wrote above)

      Delete