Apr 24, 2011

तेरा सपना

कुछ अधूरा सा, कुछ अपना सा
तेरा सपना कल रात, इन आँखों में सिमट गया
रात की तरह ही ये मन भी अँधेरे में था
एक जुगनू की तरह वो मुझमें चमक गया
अब भला इस खूबसूरत मुलाक़ात को मैं ख्वाब कैसे कहूँ?
जब एक अनकहे पल में तू मेरी हकीकत बन गया …

5 comments:

  1. whts the conceited smile about dude??

    ReplyDelete
  2. अभिजीत साहिब ,तेरा सपना से ..काश तक की आपकी रचनाये एक सांस में पढ़ आया यानि सीधा अर्थ है बहुत आनंद आया.आपका आभार

    ReplyDelete
  3. shukriya rafatji is hauslaafzayi ke liye.

    ReplyDelete